pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
राजेन्द्र लहरिया-कहानी -यहाँ कुछ लोग थे  3
राजेन्द्र लहरिया-कहानी -यहाँ कुछ लोग थे  3

राजेन्द्र लहरिया-कहानी -यहाँ कुछ लोग थे 3

राज बोहरे - राजेन्द्र लहरिया की कहानी "यहाँ कुछ लोग थे" एक ऐसे समाज की कहानी है जिसमें जातिवादी व्यवस्था का बर्चस्व और उसको चुनौती देते लोग है, अन्जाम के लिए कहानी पढ़िए...

8 मिनिट्स
पढ़ने का समय
5+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

राजेन्द्र लहरिया-कहानी -यहाँ कुछ लोग थे ३

5 0 8 मिनिट्स
29 मे 2021