pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
किसान की बेटी
किसान की बेटी

किसान की बेटी

रात हो गई, पूरा गांव सो गया, लेकिन रामचरण के आँखों में नींद कहाँ...? वह खटिया पर लेटे हुए आसमान निहार रहा है कि कहीं कोई भूला भटका हुआ बादल का टुकड़ा ही दिख जाए लेकिन आसमान तो बिल्कुल साफ है, ...

4.4
(1.2K)
38 मिनट
पढ़ने का समय
140105+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

किसान की बेटी (भाग-१)

33K+ 4.3 7 मिनट
24 जनवरी 2019
2.

किसान की बेटी (भाग–२)

20K+ 4.5 5 मिनट
26 जनवरी 2019
3.

किसान की बेटी (भाग-३)

23K+ 4.2 6 मिनट
27 जनवरी 2019
4.

किसान की बेटी (भाग-४)

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked
5.

किसान की बेटी (भाग-५)

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked
6.

किसान की बेटी (अन्तिम भाग)

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked