pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
वो सर्द रात
वो सर्द रात

वो सर्द रात

वो भयानक सर्द काली रात....रा रात के 2 बज रहे थे, अचानक से नींद खुल गयी। कुत्तों के भौकने की आवाज़ आ रही थी....बीच बीच पत्तो की सरसराहट...वो घर के पीछे पीपल  का पेड़ था...हवा चलने से पत्ते उड़ रहे ...

4.9
(30)
12 मिनट
पढ़ने का समय
1370+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

वो सर्द रात

551 4.8 4 मिनट
07 अप्रैल 2022
2.

वो सर्द रात भाग दो

406 5 2 मिनट
10 अप्रैल 2022
3.

वो सर्द रात.... भाग तीन

413 4.9 6 मिनट
13 अप्रैल 2022