pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
वृषल
वृषल

"कांय ,कांय ,कांय  , और जंगल से पक्षियों की उड़ने की आवाज़ सभी और फ़ैल गयी। पेड़ की ओट लेकर खड़ा आखेटक एक दम से भागा  जिस उसने तीर चलायाथा , कुछ दुरी पर उसे खून के निशान और छोटे छोटे पंजो के निशान ...

4.7
(20)
14 मिनट
पढ़ने का समय
1059+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

वृषल

458 5 6 मिनट
12 सितम्बर 2020
2.

वर्षल 2

299 5 5 मिनट
26 मार्च 2021
3.

शपथ

302 4.4 3 मिनट
27 मार्च 2021