pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
त्रिशा
त्रिशा

हमारे कोई संतान नहीं तो  अपनी ननद को ही अपनी बेटी मानने लगी थी... उसकी पढाई की खातिर सारे जेवर बेच दिये मैने .. और इन पर भी कर्जा चढ़ गया उसके डाक्टर बनते बनते... डाक्टर बनते ही उसने एक डाक्टर से ...

4.9
(60)
3 मिनट
पढ़ने का समय
615+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

त्रिशा

237 4.8 1 मिनट
10 जुलाई 2021
2.

दुआ करना काम बन जाये...

195 5 1 मिनट
10 जुलाई 2021
3.

फिकर क्यो करते हो

183 4.8 1 मिनट
10 जुलाई 2021