pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
तकदीर ने कहा...तुम सिर्फ़ मेरी हो
तकदीर ने कहा...तुम सिर्फ़ मेरी हो

तकदीर ने कहा...तुम सिर्फ़ मेरी हो

मुंबई शहर, हर धर्म हर जाति के लोग, हर तरह की जिंदगी, कहीं अमीर तो कहीं गरीब, कहते हैं यह शहर कभी किसी को भूखा नही रखता... हर रात की नींद पूरी करने के लिए, यहां हर किसी को यहां 2 गज जमीन नसीब हो ...

4.9
(91)
30 मिनट
पढ़ने का समय
840+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

तकदीर ने कहा...तुम सिर्फ़ मेरी हो

237 4.9 7 मिनट
18 जून 2022
2.

तकदीर ने कहा....

203 4.9 7 मिनट
24 जून 2022
3.

३) तकदीर ने कहा...

166 4.9 8 मिनट
01 जुलाई 2022
4.

तकदीर ने कहा....

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked