pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
{ सगा पुरूष }
{ सगा पुरूष }

सुबह से शाम तक चूल्हे की आँच में बैठी स्त्री जब थककर चूर होती है तो क्या उसके सगे पुरूष यानी पति को तकलीफ महसूस होती होती है । क्या वो जान पाता है दर्द अपनी सगी औरत का । क्या समझ पाता है उसके ...

4.6
(230)
16 मिनट
पढ़ने का समय
13641+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

{ सगा पुरूष }

2K+ 4.5 3 मिनट
22 मई 2021
2.

{ सगा पुरुष }

2K+ 4.7 3 मिनट
26 मई 2021
3.

( सगा पुरूष )

2K+ 4.7 3 मिनट
29 मई 2021
4.

( सगा पुरूष )

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked
5.

( सगा पुरूष )

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked