pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
निक़ाह
निक़ाह

निक़ाह

अम्मा - नेमत , मेरी जान  , कभी किताबो से नज़र हटा कर घर के काम काज़ पर भी ध्यान दे दिया करो । कल को तुम्हारी शादी होगी तो और ससुराल जाकर ऐसे ही करोगी तो क्या इज्ज़त रह जायेगी हमारी । हा । नेमत - ...

4.7
(458)
45 நிமிடங்கள்
पढ़ने का समय
88574+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

निक़ाह

20K+ 4.5 8 நிமிடங்கள்
30 மே 2021
2.

निक़ाह ( 2 )

15K+ 4.7 8 நிமிடங்கள்
31 மே 2021
3.

निक़ाह (3)

14K+ 4.7 8 நிமிடங்கள்
01 ஜூன் 2021
4.

निक़ाह ( 4 )

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked
5.

निक़ाह ( 5 )

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked
6.

निक़ाह ( आख़िरी भाग )

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
locked