pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
"घर गई है छाँव" 
(38 गज़लों का संग्रह)
"घर गई है छाँव" 
(38 गज़लों का संग्रह)

"घर गई है छाँव" (38 गज़लों का संग्रह)

"घर गई है छाँव" (36 ग़ज़लों का संग्रह) ग़ज़लकार : सुनील आकाश प्रकाशक: प्रतिलिपि प्रकाशन © कापीराइट : सुनील आकाश -------------------------------- सादर समर्पित आदरणीय बुआजी सुश्री राजेश रस्तोगी जी को ...

4.2
(589)
18 मिनट
पढ़ने का समय
38.3K+
लोगों ने पढ़ा
लाइब्रेरी
डाउनलोड करें

Chapters

1.

दो शब्द : इस ग़ज़ल-संग्रह के लिए

1K+ 4.0 2 मिनट
28 नवम्बर 2017
2.

ग़ज़ल-1 : "बीच में फूलों के बैठा...."

1K+ 4.3 1 मिनट
12 मार्च 2021
3.

ग़ज़ल-2 : "जिनको भड़काया गया हो आसमानों के..."

1K+ 4.4 1 मिनट
08 अगस्त 2018
4.

ग़ज़ल-3 : "व्यवस्था में विष घोलकर, उद्धार की बातें..."

509 4.0 1 मिनट
13 अक्टूबर 2017
5.

ग़ज़ल-4 : "चाहे भूतल पर रहे या जा बसे आकाश पर"

316 4.7 1 मिनट
12 मार्च 2021
6.

ग़ज़ल-5 : "धूप धोखों की मिली, झुलसा हुआ विश्वास है"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
7.

ग़ज़ल--6 : "जिनको अज़्मत बख्शी....."

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
8.

ग़ज़ल-7 : "बेशक ज़माने से लड़ो, कायनात से लड़ो"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
9.

ग़ज़ल-8 : आँखों मॆ बेबसी है और होठों पे ताले हैं

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
10.

ग़ज़ल-9 : "खबरदार होना चाहिए।"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
11.

ग़ज़ल-10 : "दुष्कर तो जीवन किया है सिरफिरी ..."

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
12.

ग़ज़ल-11 : "राष्ट्र-गान कहाँ है ?"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
13.

ग़ज़ल-12 : "चाहतों का दामन.....सामने खड़े हुए"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
14.

ग़ज़ल-13 : "अपनी जुल्फों को ज़रा खुल के..."

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें
15.

ग़ज़ल-14 : "तल्खियां बढ़ती गईं और फासले बढ़ते गये"

इस भाग को पढ़ने के लिए ऍप डाउनलोड करें