pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
Pratilipi Logo
"भूल"
"भूल"

कहानी की शुरुआत मनाली से होती है जो कि कई दिनों से काफी परेशान थी उसकी रातों की नींद में खलल सी पड़ गई थी रह रह कर वह हर रोज एक ही सपना देखा करती थी उस खौफनाक सपने के कारण उसकी नींद मानो गुम सी ...

4.7
(29)
17 মিনিট
पढ़ने का समय
1980+
लोगों ने पढ़ा
library लाइब्रेरी
download डाउनलोड करें

Chapters

1.

"भूल"

713 5 6 মিনিট
11 মে 2022
2.

"भूल" (पार्ट २)

643 4.7 3 মিনিট
11 মে 2022
3.

"भूल"(फाइनल पार्ट)

624 4.7 9 মিনিট
13 মে 2022