pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

वो औरत रोज़

4.4
1870

वो औरत रोज़ अपने आप पर यूँ जुल्म ढाती है स्वयं भूखी रहे पर रोटियाँ घर को खिलाती है नशे में धुत्त अपने आदमी से मार खाकर भी बहुत जिन्दादिली से दर्द को वो भूल जाती है वो बहती इक नदी है तुम उसे पोखर समझना ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
मालिनी गौतम
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Vaibhav Teddy
    14 अक्टूबर 2017
    last two lines are fantastic.... loved it... and this is fact
  • author
    Pooja Pahuja
    22 सितम्बर 2017
    Shandar musalsal gajal....Jisake sare ashaar aurat ko samarpit hain .
  • author
    Pooja Kesharwani
    15 अक्टूबर 2017
    behad khubshurat rachna .......
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Vaibhav Teddy
    14 अक्टूबर 2017
    last two lines are fantastic.... loved it... and this is fact
  • author
    Pooja Pahuja
    22 सितम्बर 2017
    Shandar musalsal gajal....Jisake sare ashaar aurat ko samarpit hain .
  • author
    Pooja Kesharwani
    15 अक्टूबर 2017
    behad khubshurat rachna .......