pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
प्र
প্র
പ്ര
પ્ર
ಪ್ರ
பி

ठिठुरती ठंड में बिलखती भूख

4.2
3440

कई बार सड़क किनारे या मंदिरों के बाहर बैठे लोगों को देख के कुछ लोगों के मन में दया का भाव उत्पन्न होता है तो कुछ उनको देख के मुंह बिचकाते है.. किसी को उनके प्रति कुछ करने की धारणा कचोटती है, तो किसी ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Pratima Preet
    16 जनवरी 2023
    me v unhe dekhkar aapki tarah hi sochti hu
  • author
    Kavi Kaushik "कवि कौशिक"
    21 दिसम्बर 2019
    बहुत सुन्दर! इनके पुनर्वास की व्यवस्था बहुत जरूरी है !
  • author
    Kamlesh Vajpeyi
    09 मई 2018
    सुन्दर रचना ! विचारणीय प्रश्न !
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Pratima Preet
    16 जनवरी 2023
    me v unhe dekhkar aapki tarah hi sochti hu
  • author
    Kavi Kaushik "कवि कौशिक"
    21 दिसम्बर 2019
    बहुत सुन्दर! इनके पुनर्वास की व्यवस्था बहुत जरूरी है !
  • author
    Kamlesh Vajpeyi
    09 मई 2018
    सुन्दर रचना ! विचारणीय प्रश्न !