pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

सुकून

4.5
2438

ट्रेन अचानक से रुक गयी। टीनू ने खिड़की से बाहर झांका। उसने देखा एक छोटी सी लड़की एक पैर में रंग बिरंगी चप्पल पहने थी। कुछ पैर से बाहर, कुछ ढीली सी। एक चप्पल पहन कर भी उसके चेहरे पर सुकून था। ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में

कहानी संग्रह "मनकही" और बाल कहानी संग्रह "बुद्धिमान चीकू नीकू और अन्य कहानियाँ" की लेखिका

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    सुब्बु यादव
    06 September 2018
    very Nice
  • author
    प्रीति खरवार
    21 May 2018
    बहुत खूबसूरत रचना!
  • author
    shobha
    06 September 2017
    good
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    सुब्बु यादव
    06 September 2018
    very Nice
  • author
    प्रीति खरवार
    21 May 2018
    बहुत खूबसूरत रचना!
  • author
    shobha
    06 September 2017
    good