pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

सरहदें

4.6
103

गुलाबी पँख की परवाज़ तारी आसमाँ पे लो फिर आये परिंदे दूर मुल्कों की हदों के फासलों से रौनकें गुलज़ार हैं दरिया के दो बाजू परिंदे देखते हैं हवा,पानी,सब्ज़ हों बाजू बसाते आशियाँ अपना नहीं बँटते ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Balkar Singh Goraya
    29 മാര്‍ച്ച് 2019
    "हम बँट गए हैं टुकड़ों टुकड़ों में। खुदाया किस तरह हम मज़हबी हैं।" ? बहुत सच। हाँ, मज़हब ने ही सिखाया है, आपस में बैर रखना।
  • author
    Dr. Santosh Chahar "ज़ोया"
    03 മെയ്‌ 2019
    सराहनीय। बहुत सुंदर
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Balkar Singh Goraya
    29 മാര്‍ച്ച് 2019
    "हम बँट गए हैं टुकड़ों टुकड़ों में। खुदाया किस तरह हम मज़हबी हैं।" ? बहुत सच। हाँ, मज़हब ने ही सिखाया है, आपस में बैर रखना।
  • author
    Dr. Santosh Chahar "ज़ोया"
    03 മെയ്‌ 2019
    सराहनीय। बहुत सुंदर