pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

सबसे बढ़िया मौसम

4.4
26785

रामू की माँ कितने समय से उससे कह रही थी, कि बेटा अब तो तू शादी कर ले, मै तो बूढ़ी हो गयी हूँ। और मेरी उमर का क्या भरोसा, पतानहीं कब यमराज का बुलावा आ जाये। मेरे बिना तो तू बिल्कुल अकेला हो जायेगा। ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
नेहा रस्तोगी
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Ámäñ Jãïñ
    19 ऑगस्ट 2017
    great
  • author
    Gaurav
    02 ऑक्टोबर 2017
    Good
  • author
    रजत रस्तोगी
    25 सप्टेंबर 2017
    very nice. regards.
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Ámäñ Jãïñ
    19 ऑगस्ट 2017
    great
  • author
    Gaurav
    02 ऑक्टोबर 2017
    Good
  • author
    रजत रस्तोगी
    25 सप्टेंबर 2017
    very nice. regards.