pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

प्रेम तराजू

4.4
11692

अरुणिमा,जिसे प्यार से सब अरु ही कहते थे।भोलेपन से सराबोर ये लड़की पहली बार में ही सबको भा जाती।शायद ही कोई हो जो उससे नाराज हुआ हो।क्योंकि लड़ना उसके स्वभाव या उसके शब्दकोश में ही नहीं था।अरु जिम्मेदार ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
Kavita Nagar

कविता नागर, लेखन में अपने अनुभव को चित्रित करने की कोशिश करती हूँ।मैं हमेशा यही कोशिश करती हूँ, कि दिल की बात दिल तक पहुँचे।कविताएं लिखना मुझे बहुत पसंद है।विभिन्न सोशल साइट्स पर ब्लागर हूंँ,कुछ रचनाएँ पत्र-पत्रिकाओं में भी प्रकाशित होती रहती है।लेखन के उच्चतम स्तर पर पहुँचने के लिए प्रयासरत हूंँ। काव्य रंगोली,कविकुंभ पत्रिका,हिंदी मिलाप ,लोकजंग न्यूज पेपरऔर विभिन्न वेवसाईट पर रचनाएं प्रकाशित।

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    04 ഏപ്രില്‍ 2018
    achchhi kahani, agar samay mile to meri kahani TEJAB KE CHHEENTE ek bar jarur padhen
  • author
    Rajeev Saxena
    20 ആഗസ്റ്റ്‌ 2020
    कहानी भावप्रधान है।पाठक को अंत तक बांधे रखने में सफल रही है। आभार।
  • author
    Mamta Meheto
    22 ജൂലൈ 2020
    very nice story
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    04 ഏപ്രില്‍ 2018
    achchhi kahani, agar samay mile to meri kahani TEJAB KE CHHEENTE ek bar jarur padhen
  • author
    Rajeev Saxena
    20 ആഗസ്റ്റ്‌ 2020
    कहानी भावप्रधान है।पाठक को अंत तक बांधे रखने में सफल रही है। आभार।
  • author
    Mamta Meheto
    22 ജൂലൈ 2020
    very nice story