pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

प्रेम

4.0
839

मैं थरथराते हाथों से लिखती हूँ प्रेम और कुछ जलती हुई आँखें मुझे घेर लेती हैं कुछ तलवारें म्यानों से बाहर आकर चमकने लगती हैं घबडाकर मैं मिटाना चाहती हूँ ‘प्रेम ‘ का हरेक हर्फ़ और प्रेम ढीठता से ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में

शिक्षा – एम्.ए. ( हिन्दी ) सम्प्रति – कंटेंट एडिटर, प्रतिलिपि कॉमिक्स प्रकाशित पुस्तकें – तिराहा,बेगम हज़रत महल (उपन्यास ) अनतर्मन के द्वीप, पॉर्न स्टार और अन्य कहानियां – कहानी संग्रह कई कवितायें ,कहानियाँ एवं लेख पत्र - पत्रिकाओं और कई ब्लॉग्स पर प्रकाशित।

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Kalyani Jha "Kalyani"
    15 మార్చి 2019
    बहुत सुंदर
  • author
    Anup Kumar
    14 డిసెంబరు 2022
    वीणा वत्सल जी की कविता"प्रेम"कवियत्री ने प्रति म की जो व्याख्या की है वह काबिलेतारीफ है.सचमुच प्रेम एक ऐसा अस्त्र है जिससे दुनिया की हर मुसीबतों को हरने की क्षमता रखती है बशर्ते उसे किस तरह इसका ,प्रयोग किया जाय इस पर निर्भर करती है.
  • author
    Jyoti Mahajan
    11 జులై 2021
    प्रेम का जो रूप अपनी कल्पना के माध्यम से आपने लेखनी के रूप में उकेरा .....बहुत ही सुंदर
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Kalyani Jha "Kalyani"
    15 మార్చి 2019
    बहुत सुंदर
  • author
    Anup Kumar
    14 డిసెంబరు 2022
    वीणा वत्सल जी की कविता"प्रेम"कवियत्री ने प्रति म की जो व्याख्या की है वह काबिलेतारीफ है.सचमुच प्रेम एक ऐसा अस्त्र है जिससे दुनिया की हर मुसीबतों को हरने की क्षमता रखती है बशर्ते उसे किस तरह इसका ,प्रयोग किया जाय इस पर निर्भर करती है.
  • author
    Jyoti Mahajan
    11 జులై 2021
    प्रेम का जो रूप अपनी कल्पना के माध्यम से आपने लेखनी के रूप में उकेरा .....बहुत ही सुंदर