pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
प्र
প্র
പ്ര
પ્ર
ಪ್ರ
பி

मुखौटा

4
1300

कई दिनो से नए पड़ोसी के दोहरे रहन सहन देख देख कर सेवानिवृत टीचर हेमंत जी आश्चर्यचकित रहते। कभी गुस्सा से भर उठते तो कभी हंसी रोकना मुश्किल हो जाता। वे सोचते, आखिर दोहरा जीवन कैसे जीते हैं लोग। एक ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
कृष्ण मनु

जन्म तिथि - 04 जून 1953 जन्म स्थान - गया बिहार शिक्षा - यांत्रिक अभियंत्रणा में डिप्लोमा भाषा ज्ञान - हिन्दी, अंग्रेजी प्रकाशित कतियां- 1. कोहरा छंटने के बाद (कहानी संग्रह) 2. पाचवां सत्यवादी (लघुकथा संग्रह) 3. प्रीति की वापसी (बा. क. संग्रह) 4. वीरू की वीरता वही 5. बीसवीं सदी का गदहा वही सम्मान/पुरस्कार - पांच साहित्यिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित सम्पर्क वर्तमान/स्थायी - ‘शिव धाम’, कतरास रोड, बीहाइण्ड पोद्दार हार्डवेयर एण्ड आउटो स्टोर नियर, एम एस एम इ, मटकुरिया, धनबाद 826001 (झारखंड) मोबाइल नं. - 09939315925ं

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    19 नवम्बर 2021
    🙏💗💕💖♥️✍️🐦💞✍️💘♥️💖💕💗🙏✍️✍️
  • author
    anita gupta
    29 मार्च 2021
    very nice
  • author
    तीन पानी "अरुण"
    04 मई 2020
    well tried
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    19 नवम्बर 2021
    🙏💗💕💖♥️✍️🐦💞✍️💘♥️💖💕💗🙏✍️✍️
  • author
    anita gupta
    29 मार्च 2021
    very nice
  • author
    तीन पानी "अरुण"
    04 मई 2020
    well tried