pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

मेरी तौबा

4.3
18002

"कुछ सोच रही हो " मैंने उसका हाँथ हौले से दबाकर पूछा "नहीं तो " नेहा के चेहरे पर शरारत की लहर दौड़ गई अब वो आसानी से बताएगी नहीं ,जब तक मैं उससे ८ -१० बार पूछ नहीं लूँगा . चार सालों से जानते है ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
सोनल रस्तोगी
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Ravi Prakash
    28 मई 2018
    बेहतरीन कहानी । छोटी सी कहानी में कितनी बड़ी बात है ।
  • author
    Kumud Rai
    28 मई 2018
    woow sonal ji.... kya likhte ho aap... bahut khoob... God bless u... dil ko chhu gyi... bahut khoobsurat lgi
  • author
    राजेश सिन्हा
    09 जुलाई 2019
    पढ़ कर चेहरे पर मुस्कान आ गयी।
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Ravi Prakash
    28 मई 2018
    बेहतरीन कहानी । छोटी सी कहानी में कितनी बड़ी बात है ।
  • author
    Kumud Rai
    28 मई 2018
    woow sonal ji.... kya likhte ho aap... bahut khoob... God bless u... dil ko chhu gyi... bahut khoobsurat lgi
  • author
    राजेश सिन्हा
    09 जुलाई 2019
    पढ़ कर चेहरे पर मुस्कान आ गयी।