pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

मेरा पहला प्यार

4.2
1631

वो गुलाबी जाड़ा पसरा हुआ धूप मेरी छत पर खिली धूप में नहाई मैं ठिठकी थी पहली बार जब नजरें मिली थी तुमसे पहली बार तुम्हारी सफेद कमीज चांदनी रात में चांद की तरह खिला हुआ मेरी नजरों में समा गया--- इन ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
सीमा संगसार
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Rakesh suthar
    08 अप्रैल 2018
    very good
  • author
    Satyendra Kumar Upadhyay
    20 अक्टूबर 2015
    वावरी , कुनवा  इत्यादि जैसे शब्दों की भरमार है जो राष्ट्र भाषा का अपमान करते हैं ।एक अत्यंत सारहीन व अप्रासांगिक कविता है ।
  • author
    Sweta Pant "Seemu"
    19 दिसम्बर 2022
    nice lines ma'am Can you please read my stories and poems and please give me support
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Rakesh suthar
    08 अप्रैल 2018
    very good
  • author
    Satyendra Kumar Upadhyay
    20 अक्टूबर 2015
    वावरी , कुनवा  इत्यादि जैसे शब्दों की भरमार है जो राष्ट्र भाषा का अपमान करते हैं ।एक अत्यंत सारहीन व अप्रासांगिक कविता है ।
  • author
    Sweta Pant "Seemu"
    19 दिसम्बर 2022
    nice lines ma'am Can you please read my stories and poems and please give me support