pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

मन के तार

3.5
3313

बारिश की बूंदो ने आज मन के तार छेङे है आ जाओ साजन मेरे हम तो यहाँ अकेले है सावन के मौसम में बादल छाये घनेरे है आ जाओ साजन मेरे हम तो यहाँ अकेले है मदमस्त करती हवायें ये महकाती फिजाऐं ये धङकन बढाके ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
एकता सारदा

नाम - एकता सारदा पता - सूरत (गुजरात) सम्प्रति - स्वतंत्र लेखन प्रकाशित सांझा काव्य संग्रह - अपनी-अपनी धरती , अपना-अपना आसमान , अपने-अपने सपने(2014) [email protected]

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Shree ::: श्री :::
    26 मई 2021
    line kafi achi hain👌
  • author
    Sumana Mahato
    28 जनवरी 2022
    बहत सुंदर
  • author
    P D "PD"
    29 मई 2020
    wow😍
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Shree ::: श्री :::
    26 मई 2021
    line kafi achi hain👌
  • author
    Sumana Mahato
    28 जनवरी 2022
    बहत सुंदर
  • author
    P D "PD"
    29 मई 2020
    wow😍