pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

तेरी याद साथ है

4.3
8270

आज फिर वही सपना। वो उसकी ज़िंदगी से तो जा चुकी थी पर उसके ख्वाबों में आज भी मौजूद थी। मानो कल की ही बात हो जब वो उसकी दुकान पर पहली बार आई थी। 'एक सूट दिखाना' और देखता ही रह गया था राजन उसे। 'एक ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
हर्ष

मन की उड़ान को काग़ज़ पर उतारने का शौक पूरा करने के लिए लिखना शुरू किया। जिन पाठकों को मेरी यह कोशिश पसंद आई उनको दिल से धन्यवाद।

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Neha Neha
    19 अप्रैल 2018
    shi kha yaade kabhi nahi jati....dil s fr vo sath ho ya nhi
  • author
    Pallavi Sharma
    20 जुलाई 2020
    Bahut achi story h..han pr isme Rajan smjhdaar tha jo smjh gya..brna kai ldke bahut bdl jate hain...aur shadi krne ke liye..ldki ki bdnami tk kr dete hain....
  • author
    sanju sanju
    16 मार्च 2018
    Nice story ' yade wo hai jo kabhi bhulae nhi ja sakti chahe wo dosti ki ho ya pyar ki hoya to life me jo movement huaa ho . I like this story... ☺☺☺☺
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Neha Neha
    19 अप्रैल 2018
    shi kha yaade kabhi nahi jati....dil s fr vo sath ho ya nhi
  • author
    Pallavi Sharma
    20 जुलाई 2020
    Bahut achi story h..han pr isme Rajan smjhdaar tha jo smjh gya..brna kai ldke bahut bdl jate hain...aur shadi krne ke liye..ldki ki bdnami tk kr dete hain....
  • author
    sanju sanju
    16 मार्च 2018
    Nice story ' yade wo hai jo kabhi bhulae nhi ja sakti chahe wo dosti ki ho ya pyar ki hoya to life me jo movement huaa ho . I like this story... ☺☺☺☺