pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

मैं और मेरा दोसा

5
34

लाॅकडाउन में आप कुछ ना कुछ नया खाने की इच्छा तो रखते ही होंगे. अब मुझे तो कुछ बनाना नहीं आता. सिर्फ खाना ही आता है. किसी भी अर्थव्यवस्था में माँग की भी अहं भूमिका होती है तो मेरा भी कुछ ना कुछ ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
Sudhir Kumar Sharma

नाम तो सुधीर लेकिन लेखनी बिल्कुल अधीर कविता के दर्पण में सिमटी जीवन की हर एक तस्वीर चिंतन के सागर में डूबी  और चेतना का नभ छूती छंदों की सीपी में ढलती मोती बनती मन की पीर       -सुधीर अधीर

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    अंजलि
    25 മെയ്‌ 2020
    बहुत मजेदार है आपका दोसा आदरणीय सर जी 😊लेकिन बहुत नाइंसाफी हैं 😀😀न घर में किसी को बनाना आता है.. न बाहर से खा सकते है.. 😔मुझे भी दोसा बहुत पसंद हैं... कोई नहीं मैं उत्तर भारतीय चीला खा लूंगी 😊😊लॉक डाउन की वजह से खिला नहीं सकते.. 😀😀😅😅इसलिए माफ़ी 🙏🙏🙏
  • author
    Shital malani "શ્રી"
    25 മെയ്‌ 2020
    vah vah very interesting "अनपढ़ बचपन", ને પ્રતિલિપિ પર વાંચો : https://gujarati.pratilipi.com/story/1q6xzagzd5bw?utm_source=android
  • author
    Awanish Chaubey
    24 മെയ്‌ 2020
    दोसा भी लाज़वाब और दो सै भी कमाल।👌👌👏👏🙏🙏 अगली बार इडली का नंबर लगाएं😀😀🙏🙏
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    अंजलि
    25 മെയ്‌ 2020
    बहुत मजेदार है आपका दोसा आदरणीय सर जी 😊लेकिन बहुत नाइंसाफी हैं 😀😀न घर में किसी को बनाना आता है.. न बाहर से खा सकते है.. 😔मुझे भी दोसा बहुत पसंद हैं... कोई नहीं मैं उत्तर भारतीय चीला खा लूंगी 😊😊लॉक डाउन की वजह से खिला नहीं सकते.. 😀😀😅😅इसलिए माफ़ी 🙏🙏🙏
  • author
    Shital malani "શ્રી"
    25 മെയ്‌ 2020
    vah vah very interesting "अनपढ़ बचपन", ને પ્રતિલિપિ પર વાંચો : https://gujarati.pratilipi.com/story/1q6xzagzd5bw?utm_source=android
  • author
    Awanish Chaubey
    24 മെയ്‌ 2020
    दोसा भी लाज़वाब और दो सै भी कमाल।👌👌👏👏🙏🙏 अगली बार इडली का नंबर लगाएं😀😀🙏🙏