प्र
প্র
പ്ര
પ્ર
ಪ್ರ
பி
होम
श्रेणी लिखिए

लव ऐट द एज ऑफ़ सेवेनटीन

4.3
22667

ये एक उदास नमीं भरा दिन था. आसमान में हलकी बदरी थी. हवा बिलकुल भी नहीं चल रही थी. मैं और शुभम क्लास बंक करके डिपार्टमेंट के पीछे वाले पार्क में बैठे इनसाइट्स की एसटी सॉल्व कर रहे थे. थोड़ी देर में ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
शशांक भारतीय

अपने और अपने आसपास के बीते हुवे पलों को कहानी और कविताओं का रूप देने की एक अदना कोशिश करता हूँ. अब तक के खुद को उपन्यास "dehaati ladke" में पूरा उतार दिया है. बाकी का मैं बन रहा हूँ...

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    रोहित शर्मा
    12 अगस्त 2018
    लेखक ने लगता है पूरा अनुभव ही उड़ेल दिया है। अपने स्कूल के दिनों की याद आ गयी। भाषा बहुत ही आकर्षक है मगर कहानी का अंत अधूरा है। पाठक को रोमांच के चरम पर पहुचा कर इस तरह से नही छोड़ा जाता। ये बात बहुत खलती है। यह एक प्रकार से पाठको के साथ छल है, भविष्य में लिखते हुए इस बात का पूरा ध्यान रखें।
  • author
    Rashi Khare
    25 अक्टूबर 2019
    कहानी बहुत अच्छी थी पर अधूरी थी ।2nd पार्ट लिखकर पूरा कर सकते हैं
  • author
    bhanu Pareek "svechha"
    07 अक्टूबर 2016
    Thodi starting m extra baate hone se bore lga baki ki poori story itni bdi hone k baad b poori pdhi gayi qki beech m chhodne ka man ni hua kahani is tarah se likhi gyi h ki koi b apne sath hue un palo ko jee sakta hai............. 1 baat puchhna chahugi ki disha g se kuch baat b bani ya fir.........bs kavita kahani he likhte rah gye
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    रोहित शर्मा
    12 अगस्त 2018
    लेखक ने लगता है पूरा अनुभव ही उड़ेल दिया है। अपने स्कूल के दिनों की याद आ गयी। भाषा बहुत ही आकर्षक है मगर कहानी का अंत अधूरा है। पाठक को रोमांच के चरम पर पहुचा कर इस तरह से नही छोड़ा जाता। ये बात बहुत खलती है। यह एक प्रकार से पाठको के साथ छल है, भविष्य में लिखते हुए इस बात का पूरा ध्यान रखें।
  • author
    Rashi Khare
    25 अक्टूबर 2019
    कहानी बहुत अच्छी थी पर अधूरी थी ।2nd पार्ट लिखकर पूरा कर सकते हैं
  • author
    bhanu Pareek "svechha"
    07 अक्टूबर 2016
    Thodi starting m extra baate hone se bore lga baki ki poori story itni bdi hone k baad b poori pdhi gayi qki beech m chhodne ka man ni hua kahani is tarah se likhi gyi h ki koi b apne sath hue un palo ko jee sakta hai............. 1 baat puchhna chahugi ki disha g se kuch baat b bani ya fir.........bs kavita kahani he likhte rah gye

Popular Languages

Top Genre

Also Read