pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
प्र
প্র
പ്ര
પ્ર
ಪ್ರ
பி

ज्योती

4.4
3307

'ज्योती', ये नाम कितने प्यार से रखा होगा अलका और जोगिन्दर ने; पर उनकी ऐयाशियों ने अपनी ज्योति के जीवन में कभी ना खत्म होने वाला अन्धेरा कर दिया।

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
Neha Singh

सपने में पंख सबके उग आते हैं, पर हकिकत में उड़ जाना आसान नहीं। -"neha"

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    10 सितम्बर 2019
    बेहद शानदार लिखा ज्योति जो उजाला लाती है ।उसके भाई जिनकी कमाई में चमड़ी सड़ने लगती है ।लिपस्टिक जिसके अधरों के घेरे है ।बीच में जोगिंदर की इंग्लिश। ज्योति का अंधकार ने डूबना।बेहद चुने हुए शब्द जो कहानी को अलग दिशा में ले जाते है । बेहद शानदार 👌👌
  • author
    Dev Lal Gurjar "Bhatia"
    10 सितम्बर 2019
    जी! बहुत सुंदर कहानी हैं आपकी अद्भुत सुंदर अभिव्यक्ति की है.. 🙏👌👌🙏🙏🙏🙏👌🌹🌷🌷🌷🙏👌🙏🙏🙏👌👌हमारी भी पढी़ये जी "नदी किनारे प्रेम "...!!!!
  • author
    14 नवम्बर 2019
    👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍 🌻 आपकी रचना अति उत्तम है। 🌻 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏 छोटी सी कविता एक बार अवश्य पढ़ें। "ऊंच-नीच का भेदभाव।", को प्रतिलिपि पर पढ़ें : https://hindi.pratilipi.com/story/vc61hj6g2bzu?utm_source=android&utm_campaign=content_share
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    10 सितम्बर 2019
    बेहद शानदार लिखा ज्योति जो उजाला लाती है ।उसके भाई जिनकी कमाई में चमड़ी सड़ने लगती है ।लिपस्टिक जिसके अधरों के घेरे है ।बीच में जोगिंदर की इंग्लिश। ज्योति का अंधकार ने डूबना।बेहद चुने हुए शब्द जो कहानी को अलग दिशा में ले जाते है । बेहद शानदार 👌👌
  • author
    Dev Lal Gurjar "Bhatia"
    10 सितम्बर 2019
    जी! बहुत सुंदर कहानी हैं आपकी अद्भुत सुंदर अभिव्यक्ति की है.. 🙏👌👌🙏🙏🙏🙏👌🌹🌷🌷🌷🙏👌🙏🙏🙏👌👌हमारी भी पढी़ये जी "नदी किनारे प्रेम "...!!!!
  • author
    14 नवम्बर 2019
    👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍👍 🌻 आपकी रचना अति उत्तम है। 🌻 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏 छोटी सी कविता एक बार अवश्य पढ़ें। "ऊंच-नीच का भेदभाव।", को प्रतिलिपि पर पढ़ें : https://hindi.pratilipi.com/story/vc61hj6g2bzu?utm_source=android&utm_campaign=content_share