pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

घी ,मक्खनऔर गोलमाल

4.7
725

आज शर्मा निवास खुशियों से चहक रहा था और घर भरा हुआ था अरमानों से| होता भी क्यों न? आज घर की सबसे छोटी बहू पहली रसोई जो बना रही थी। इसके बाद तो ये पल अब आने वाली पीढ़ियों के नाम ही होने वाला था| ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
Sumitaa Sharma

sumitaa sharma

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    26 जुलाई 2022
    अति सुन्दर रचना एकदम नई और अछूती।। "शिवा"
  • author
    chandna
    30 जून 2022
    55 ke bad bachpan ata hai 🤣
  • author
    Manish Sharma
    14 मई 2023
    बहुत शानदार रचना है।
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    26 जुलाई 2022
    अति सुन्दर रचना एकदम नई और अछूती।। "शिवा"
  • author
    chandna
    30 जून 2022
    55 ke bad bachpan ata hai 🤣
  • author
    Manish Sharma
    14 मई 2023
    बहुत शानदार रचना है।