pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

एक दुल्हन की मौत

4.6
6159

किशना  पैदा होते ही उसकी  माँ ने  उसका नाम रख दिया,  यूं ही नहीं रखा उसका नाम,  उसके रंग को देखकर,  नैन नक्श सुंदर थे, परंतु  रंग काला ! नाते रिश्तेदारों को तो  जैसे मौका मिल गया,  एक तो लड़की,  ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
Risha Gupta

लेखक बनना आसान कहा, खुद को भीतर तक कुरेदती हूँ,  बिखरती हूँ तब जाकर ये कलम निखरती है ✍️✍️

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    vimla y jain
    09 जुलाई 2020
    मतलब के लिए शादी करने वालों की कमी नहीं है नाइस स्टोरी यह सच्चाई भी है
  • author
    अंजलि
    09 जुलाई 2020
    लेकिन वो फिर भी उन सब चीजों से निकल जाएगी.. और ऐसी मानसिकता वालों को किशना फिर से तमाचा लगाएगी.. आसान नहीं मानसिकता का बदलना.. लेकिन किशना ने शुरुआत तो कर ही दी थी.. और आगे भी बड़े परिवर्तन करेंगी.. लाजवाब कहानी दी.. बेहतरीन प्रस्तुति.. शेर की खाल में भेड़िये कितने भी छिपे हो लेकिन शेर अभी भी है 😊👏👏👏👏👏👏👌👌👌👌🙏🙏
  • author
    Mrs Mamta Gupta
    22 अक्टूबर 2020
    shaadi jaise pavitra rishte ko bhi lajjit krte h aise log or vishvaas k layak bhi nhi hote hr jgah bs swarth hota h
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    vimla y jain
    09 जुलाई 2020
    मतलब के लिए शादी करने वालों की कमी नहीं है नाइस स्टोरी यह सच्चाई भी है
  • author
    अंजलि
    09 जुलाई 2020
    लेकिन वो फिर भी उन सब चीजों से निकल जाएगी.. और ऐसी मानसिकता वालों को किशना फिर से तमाचा लगाएगी.. आसान नहीं मानसिकता का बदलना.. लेकिन किशना ने शुरुआत तो कर ही दी थी.. और आगे भी बड़े परिवर्तन करेंगी.. लाजवाब कहानी दी.. बेहतरीन प्रस्तुति.. शेर की खाल में भेड़िये कितने भी छिपे हो लेकिन शेर अभी भी है 😊👏👏👏👏👏👏👌👌👌👌🙏🙏
  • author
    Mrs Mamta Gupta
    22 अक्टूबर 2020
    shaadi jaise pavitra rishte ko bhi lajjit krte h aise log or vishvaas k layak bhi nhi hote hr jgah bs swarth hota h