pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

ध्यान

4.6
11791

उसी धन का नाम ध्यान है।

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
राहुल अवस्थी

Write to inspire...

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    गुरनाम सिंह
    01 जुलै 2020
    इस रचना की शैली से ऐसा जान पड़ता है कि यह ओशो के वचन हैं।
  • author
    Neelam Nonu
    04 जानेवारी 2022
    speechless 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏jeevan ka saar 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
  • author
    Anupma "Prayagi"
    18 नोव्हेंबर 2019
    ekdam sahi likha apne. zindagi k antim padav par pahuch kar lagta hai ki humne kuch paya he nhi
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    गुरनाम सिंह
    01 जुलै 2020
    इस रचना की शैली से ऐसा जान पड़ता है कि यह ओशो के वचन हैं।
  • author
    Neelam Nonu
    04 जानेवारी 2022
    speechless 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏jeevan ka saar 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐
  • author
    Anupma "Prayagi"
    18 नोव्हेंबर 2019
    ekdam sahi likha apne. zindagi k antim padav par pahuch kar lagta hai ki humne kuch paya he nhi