pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

बुआ, स्व• गिरिजा देवी

4.6
2036

" ई अंग्रेज कहाँ से पकड़ ले अइला ?...कह द पहिले से...कि हम फीता काटे क भी पांच लाख ले ई ला..!" यह कहते हुए उन्होंने सिल्वर-पानदान से बीड़ा बना कर मुँह में डाला और बड़े दुलार से "राय साहब" ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
पीयूष शर्मा

Piyush graduate in master of computer application from BANARAS HINDU UNIVERSITY VARANASI

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    नूपुर शांडिल्य
    03 मार्च 2019
    बड़े लोगों की छोटी-छोटी बातें कितनी सुहाती हैं ! शुक्रिया !
  • author
    Sharda Rani Shukla
    02 जानेवारी 2018
    बहुत सही वर्णन किया गया है।पुरानी यादें जीवंत हो गई।
  • author
    Abha Raizada
    31 डिसेंबर 2017
    Ek mahan,param pujniya gayika Ko bhavbhini shradha Kali...
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    नूपुर शांडिल्य
    03 मार्च 2019
    बड़े लोगों की छोटी-छोटी बातें कितनी सुहाती हैं ! शुक्रिया !
  • author
    Sharda Rani Shukla
    02 जानेवारी 2018
    बहुत सही वर्णन किया गया है।पुरानी यादें जीवंत हो गई।
  • author
    Abha Raizada
    31 डिसेंबर 2017
    Ek mahan,param pujniya gayika Ko bhavbhini shradha Kali...