pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी
प्र
প্র
പ്ര
પ્ર
ಪ್ರ
பி

औरत

4.4
10015

औरत जब कुछ ठान लेती है तो सब कुछ सब कर सकती है .आकाश ही उसकी सीमा है . पढ़िए दहेज़ के कारण अयोग्य वर को वरी गई लड़की की जिजीविषा की कहानी ......... ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
वीना सिंह

स्वतंत्र लेखिका प्रकाशन - शोध ग्रंथ - लोक साहित्य, विभिन्न हिंदी पाठ्य पुस्तकें,, व्याकरण कक्षा १-८, 7 साझा काव्य संकलन , 7 साझा लघु कथा संग्रह लेख आदि प्रकाशन- भाषा भारती, नवपल्लव , शब्द सुमन , सिनर्जी ,हरि गंधा, हिमालिनी, जगमगदीप ज्योति, मधु संबोध, साहित्य कलश आदि पत्रिकाओं में प्रकाशित लेख, कहानियाँ, कविताएँ आदि सम्मान- विविन्न संस्थाओं द्वारा साहित्य सेवा व हिंदी सेवा सम्मान आदि.आदर्श राष्ट्रभाषा शिक्षक पुरस्कार, राष्ट्र रत्न सम्मान, श्रेष्ठ लघुकथाकार सम्मान आदि|

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    23 সেপ্টেম্বর 2019
    अति सुन्दर प्रस्तुति।। कृपया स्नेह स्वरूप मेरी रचना श्रीदुर्गाचरितमानस पढ़ने का कष्ट करे समीक्षा की प्रतीक्षा सहृदय धन्यवाद जय माता दी
  • author
    Anju Tiwari
    11 জুলাই 2020
    good story 👌
  • author
    ज्योति वत्स
    25 অক্টোবর 2019
    very nice
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    23 সেপ্টেম্বর 2019
    अति सुन्दर प्रस्तुति।। कृपया स्नेह स्वरूप मेरी रचना श्रीदुर्गाचरितमानस पढ़ने का कष्ट करे समीक्षा की प्रतीक्षा सहृदय धन्यवाद जय माता दी
  • author
    Anju Tiwari
    11 জুলাই 2020
    good story 👌
  • author
    ज्योति वत्स
    25 অক্টোবর 2019
    very nice