pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

अशुद्ध

4.8
9691

दीवाली की शाम वो दिये जलाने, पूजा- प्रार्थना करने और प्रसाद ग्रहण करने जैसी कई सारी क्रियाओं से वंजित रखी गयी। उस शाम खुश होने की सारी वजहों से उसके खुद के घरवालों ने उसे दूर रखा। और ऐसा सिर्फ एक ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
रवि सुमन

जन्म तिथि- 21 सितंबर 2000 जन्मस्थल- सोढना माधोपुर, मीनापुर, मुजफ्फरपुर, बिहार इ-पत्रिकाओं पर रचनाएँ प्रकाशित email- [email protected]

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Kamlesh Kumar Rawat
    12 मई 2018
    बिलकुल सही लिखा है आपने, बदलाव की शुरुआत हमें अपने घर से ही करनी होगी
  • author
    साक्षी चौधरी
    20 जनवरी 2020
    sabse pehli baat to apne ye lekh likha hai uske liye bahut bahut...dhanyawaad ki aap is baat ko samajhte hai....or ye bhi sahi keh rahe hai ki...orte hi khud ko...alag karne lagti hai...unhe kuch bhi galat nahi lagta jo is time par unke sath sabka behave rehta hai...shuruaat karne se hi...badlaaav aega....thanks again for this.....
  • author
    Pooja Sharma
    12 जून 2018
    correct
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Kamlesh Kumar Rawat
    12 मई 2018
    बिलकुल सही लिखा है आपने, बदलाव की शुरुआत हमें अपने घर से ही करनी होगी
  • author
    साक्षी चौधरी
    20 जनवरी 2020
    sabse pehli baat to apne ye lekh likha hai uske liye bahut bahut...dhanyawaad ki aap is baat ko samajhte hai....or ye bhi sahi keh rahe hai ki...orte hi khud ko...alag karne lagti hai...unhe kuch bhi galat nahi lagta jo is time par unke sath sabka behave rehta hai...shuruaat karne se hi...badlaaav aega....thanks again for this.....
  • author
    Pooja Sharma
    12 जून 2018
    correct