pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

अदल बदल

3.7
20450

अलीगढ़ में दुष्यंत नमक एक राजा था । उसकी एक बेटी थी। सूर्यमाला नाम था उसका | जैसा नाम वैसे ही गुण | वह अत्यंत रूपवान और शीलवान थी | राजा ने अपनी बेटी का ब्याह एक एक दूसरे राजा के साथ कर दिया। बड़े ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
अज्ञात
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    दिलीप गिरि
    21 ఏప్రిల్ 2017
    बेकार कहानी, सबसे खराब तो एक ही वाक्य को बार - बार दोहराना " गुड्डा गुड़िया तुम सुनते हो"- समय का व्यर्थ जाना है इस कहानी का पढ़ना।
  • author
    Vijay Tripathi
    22 ఆగస్టు 2016
    नाक कान काट के उल्टा गधे पर बिठा दिया .......................हाहाहा
  • author
    Menka Khanna
    16 జులై 2018
    humare yaha karwa chaut ki katha ka hissa hai ye
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    दिलीप गिरि
    21 ఏప్రిల్ 2017
    बेकार कहानी, सबसे खराब तो एक ही वाक्य को बार - बार दोहराना " गुड्डा गुड़िया तुम सुनते हो"- समय का व्यर्थ जाना है इस कहानी का पढ़ना।
  • author
    Vijay Tripathi
    22 ఆగస్టు 2016
    नाक कान काट के उल्टा गधे पर बिठा दिया .......................हाहाहा
  • author
    Menka Khanna
    16 జులై 2018
    humare yaha karwa chaut ki katha ka hissa hai ye