pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

आज़ाद मन

4.4
37163

पिछले दिनों सुमीता और रमण अपने स्टूडेंट के आमंत्रण पर शादी की एक रस्म में शामिल हुए। वहाँ पहुँचते ही वे सब उनके आगत पर बहुत खुश हुए। उन दोनों के लिए उस परिवार से मिला आदर और अपनापन कभी नहीं बिसारा जा ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    ANUPMA TIWARI
    04 मार्च 2019
    यहाँ अगर होम मेकर बोल दिया जाए। तो ऐसे मुँह बनाते है जैसे किसी की मौत की खबर सुन ली हो। सीधा जवाब होता है फिर। काम ही क्या है इसके पास। ऐसा क्यों।
  • author
    Mayra
    13 अगस्त 2020
    👏👏👏👏👏👏 वास्तव में एक महान रचना। मैंने अब तक जो भी रचनाएँ पढ़ी वो केवल संघर्ष, मजबूरी को दिखती हैं। इस तरह से प्रस्तुत की जाती हैं कि मानसिक थकान होने लगती हैं। परंतु आपकी रकना वाकई में सकारात्मक और प्रेरणादायी है।
  • author
    Alka Sanghi
    03 दिसम्बर 2017
    Ek nayi soch
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    ANUPMA TIWARI
    04 मार्च 2019
    यहाँ अगर होम मेकर बोल दिया जाए। तो ऐसे मुँह बनाते है जैसे किसी की मौत की खबर सुन ली हो। सीधा जवाब होता है फिर। काम ही क्या है इसके पास। ऐसा क्यों।
  • author
    Mayra
    13 अगस्त 2020
    👏👏👏👏👏👏 वास्तव में एक महान रचना। मैंने अब तक जो भी रचनाएँ पढ़ी वो केवल संघर्ष, मजबूरी को दिखती हैं। इस तरह से प्रस्तुत की जाती हैं कि मानसिक थकान होने लगती हैं। परंतु आपकी रकना वाकई में सकारात्मक और प्रेरणादायी है।
  • author
    Alka Sanghi
    03 दिसम्बर 2017
    Ek nayi soch