pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

आजाद परिंदा

4.7
5192

ये कहानी है एक नन्हे से लड़के छोटू की । जो पैसे कमाने की चाह में शहर आता है , और कुछ ही समय मे यहां लोगो के बर्ताव से तंग आकर वापस अपने गांव जाने को आतुर है

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से एम कॉम करने के बाद , पिछले कुछ समय से लिखना शुरू किया , अपनी लेखनी के माध्यम से कुछ अधूरे किस्से पूरे करती हूं , कुछ सामाजिक बुराईयों का हल ढूंढने की कोशिश भी करती हूं , जिसके माध्यम से समाज को अच्छा सन्देश दे सकूँ , हाल ही में शिकायत प्रतियोगिता में सांत्वना पुरस्कार मिलने से सकारात्मक भाव आया है , समाचार पत्रों में समय समय पर लेख , कवितायें प्रकाशित होती है , आज लेखनी में जो भी पहचान बना पाई हूँ , उसका पूरा श्रेय मेरी मां को जाता है जो अब हमारे बीच नही है अगर अच्छी लेखक बन पाऊं तो उन्हें ये मेरी सच्ची श्रद्धाजंलि होगी ।

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Usha Mishra
    02 अगस्त 2019
    मार्मिक कहानी बढ़िया अंत के साथ ।
  • author
    Pushpendra Thakur
    25 जुलाई 2020
    एक अनमोल कहानी 👌👌
  • author
    shashiprabha srivastava
    01 अगस्त 2019
    bhut sundr rchna
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Usha Mishra
    02 अगस्त 2019
    मार्मिक कहानी बढ़िया अंत के साथ ।
  • author
    Pushpendra Thakur
    25 जुलाई 2020
    एक अनमोल कहानी 👌👌
  • author
    shashiprabha srivastava
    01 अगस्त 2019
    bhut sundr rchna