pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

विशवास

4.8
2658

गौरी रोटी बनाते बनाते *"ॐ नमः शिवाय"* का जाप कर रही थी, अलग से पूजा का समय कहाँ निकाल पाती थी बेचारी, तो बस काम करते करते ही...। एकाएक धड़ाम से जोरों की आवाज हुई और साथ मे दर्दनाक चीख। कलेजा धक से रह ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
WhatsApp Stories

Owner - Jitendra Goyal

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Sudhanshu Sharma
    28 जून 2020
    सच्ची आस्था का कोई विकल्प नही होता।
  • author
    Swati Kashyap
    20 जुलाई 2018
    nice
  • author
    Shashi Mishra
    07 जुलाई 2020
    सच है मन में विश्वास है तो सब कुछ सहज ही नही हो जाता है ईश्वर के चमत्कार को न कोई समझ सका है न समझ सके गा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Sudhanshu Sharma
    28 जून 2020
    सच्ची आस्था का कोई विकल्प नही होता।
  • author
    Swati Kashyap
    20 जुलाई 2018
    nice
  • author
    Shashi Mishra
    07 जुलाई 2020
    सच है मन में विश्वास है तो सब कुछ सहज ही नही हो जाता है ईश्वर के चमत्कार को न कोई समझ सका है न समझ सके गा