pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

द नंबर यू आर ट्राइंग टू काॅल

4.2
7432

मानव जीवन व मौत के एक क्षण मात्र के अंतर को समझाती हुई सी राज और रजनी की दिल दहला देने वाली कहानी ।

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
अंक मौर्या

भावों को शब्दों में पिरोने की कोशिश करता हूं 🙏😊

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    jeetu
    08 ಜುಲೈ 2019
    कहानी बेहतरीन दिशा मे जा रही थी परंतु कहानी का अंत पसंद नहीं आया। वैसे ही जीवन में इतनी तकलीफ है और दर्द है ऐसी कहानियां पढ़कर फिर और निराशा होती है।
  • author
    प्रिया सिंह "Life🧬"
    20 ಮೇ 2018
    शब्द कम पड़ रहे हैं मेरे पास । जीवंत कर देतो हो रचना को हाल फलहाल में घटे किसी घटना से जोड़ कर। इंसान की प्रबृत्ति को बहुत अच्छे ढंग से दर्शाया है । वक़्त रहते हमे रिश्ते जीना नहीं आता।
  • author
    विद्या शर्मा
    31 ಮೇ 2018
    bhut hi khoobsurat rachna jo ek msg bhi de rhi hai ki hr pl ko pyar se ji lo kya pta agle pl kon kho jay..
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    jeetu
    08 ಜುಲೈ 2019
    कहानी बेहतरीन दिशा मे जा रही थी परंतु कहानी का अंत पसंद नहीं आया। वैसे ही जीवन में इतनी तकलीफ है और दर्द है ऐसी कहानियां पढ़कर फिर और निराशा होती है।
  • author
    प्रिया सिंह "Life🧬"
    20 ಮೇ 2018
    शब्द कम पड़ रहे हैं मेरे पास । जीवंत कर देतो हो रचना को हाल फलहाल में घटे किसी घटना से जोड़ कर। इंसान की प्रबृत्ति को बहुत अच्छे ढंग से दर्शाया है । वक़्त रहते हमे रिश्ते जीना नहीं आता।
  • author
    विद्या शर्मा
    31 ಮೇ 2018
    bhut hi khoobsurat rachna jo ek msg bhi de rhi hai ki hr pl ko pyar se ji lo kya pta agle pl kon kho jay..