pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

पीना छोड़ दिया जाये

4.0
2093

शीशे सा भरा नस नस में उठकर न अब चला जाये। कोई सहारा देकर उठाये खुद से अब न उठा जाये अक्सर सोचा मैंने मय पिये पीना अब छोड़ दिया जाये। जब पीते थे यारों में जीते थे अब तन्हा किधर जिया जाये। आते आते ही ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में

विज्ञान पारास्नातक ,भारतीय राजस्व सेवा अधिकारी (सेवा निवृत), मूल रूप से झाँसी निवासी , कोचिन में निवासरत। पूर्व सहायक आयुक्त सीमाशुल्क । लिखने पढ़ने का शौक है कुछ पुस्तकें प्रकाशित। उल्लेखनीय पुस्तके, संवाद (कविता संग्रह), लुटेरों का टीला,चंबल( लघु उपन्यास), अष्ट योगी(लघु उपन्यास),

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Arun Sharma
    26 मई 2019
    पीना छोड दिया जाय 👌👌👌👌👌
  • author
    Virat 😘😘
    27 मई 2020
    nice line👌👌
  • author
    नितीश सिंह
    28 नवम्बर 2018
    बहुत खूब👌👌👍
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Arun Sharma
    26 मई 2019
    पीना छोड दिया जाय 👌👌👌👌👌
  • author
    Virat 😘😘
    27 मई 2020
    nice line👌👌
  • author
    नितीश सिंह
    28 नवम्बर 2018
    बहुत खूब👌👌👍