pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

माँ और मेरी भूमिका

4.3
788

अब, जबकि नहीं बुलाती तुम चंदा मामा तुम्हें उठाकर गोद में ले जाते वक़्त यहाँ से वहाँ अब मैं निभाता हूँ एक पिता की भूमिका ..........

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में

लेखन जिसके लिए संजीवनी है, पढ़ना असंख्य मनीषियों की संगति, किताबें मंदिर और लेखक उस मंदिर के देव-देवी। कठकरेज’ (कहानी संग्रह) तथा मैथिली भोजपुरी अकादमी, दिल्ली से ‘जिनगी रोटी ना हऽ’ (कविता संग्रह), 'सम्भवामि युगे युगे' (लेख-संग्रह) व 'ऑनलाइन ज़िन्दगी' (कहानी संग्रह) प्रकाशित हो चुकी है। साझा काव्य संग्रह ‘पंच पल्लव’ और 'पंच पर्णिका' का संपादन भी किया है। वर्ण-पिरामिड का साझा-संग्रह ‘अथ से इति-वर्ण स्तंभ’ तथा ‘शत हाइकुकार’ हाइकु साझा संग्रह में आ चुके हैं। साहित्यकार श्री रक्षित दवे द्वारा अनुदित इनकी अट्ठाइस कविताओं को ‘वारंवार खोजूं छुं’ नाम से ‘प्रतिलिपि डाॅट काॅम’ पर ई-बुक भी है। आकाशवाणी और कई टी.वी. चैनलों से निरंतर काव्य-कथा पाठ प्रसारित होते रहने के साथ ही ये अपने गृहनगर में साहित्यिक संस्था ‘संवाद’ का संयोजन करते रहे हैं। इन्होंने हिंदी टेली फिल्म ‘औलाद, लघु फिल्म ‘लास्ट ईयर’ और भोजपुरी फिल्म ‘कब आई डोलिया कहार’ के लिए पटकथा-संवाद और गीत लिखा है। ये अबतक लगभग तीन दर्जन नाटकों-लघुनाटकों का लेखन और निर्देशन कर चुके हैं। वर्तमान में कई पत्रिकाओं के संपादक मंडल से जुड़े हुए हैं। साल 2002 से हिंदी शिक्षण और पाठ्यक्रम निर्माण में संलग्न हैं तथा वर्तमान में दिल्ली परिक्षेत्र में शिक्षण-कार्य करते हुए स्वतंत्र लेखन करते हैं। ये विश्व-पटल पर छात्रों को आॅनलाइन हिंदी पढ़ाते हैं। राजापुरी, उत्तम-नगर, नई दिल्ली

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    उमा शंकर मिश्र
    14 सितम्बर 2018
    भावनाओं को कलम में पिरोने की का अंदाज तो कोई आपसे सीखे भईया
  • author
    मधु त्यागी
    12 मार्च 2017
    शब्दों को बहुत ख़ूबसूरती से पिरोया है । 👍
  • author
    कवि कुमार अशोक
    10 अगस्त 2018
    एक माँ के लिए यह सुन्दर चित्रण है ....
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    उमा शंकर मिश्र
    14 सितम्बर 2018
    भावनाओं को कलम में पिरोने की का अंदाज तो कोई आपसे सीखे भईया
  • author
    मधु त्यागी
    12 मार्च 2017
    शब्दों को बहुत ख़ूबसूरती से पिरोया है । 👍
  • author
    कवि कुमार अशोक
    10 अगस्त 2018
    एक माँ के लिए यह सुन्दर चित्रण है ....