pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

जीवन से भरी तेरी आँखें

4.7
76805

गर्मियों की छुट्टी के बाद कॉलेज का पहला दिन था | पहले ही नयन को बहुत देर हो चुकी थी | अपना कॉलेज बैग उठाया, माँ को बाय कहा और बस स्टॉप की तरफ भागी | बस स्टॉप घर से १० मिनट की दूरी पर था और सिर्फ ५ ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
मीनू विश्वास
समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    AnshuPriya Agrawal
    05 March 2020
    बहुत सुंदर कहानी कथावस्तु बहुत ही सार्थक, हर पात्र बहुत सजीवता से गढ़े गए हैं, मानों कोई चलचित्र चल रही हो, 🙏🙏 👌👌🙏💐 आपकी प्रशंसा के लिए और बधाई देने के लिये शब्दों की कमी महसूस कर रही हूँ ..... बहुत बढ़िया बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें
  • author
    Jahanara Saleem
    26 March 2020
    जीवन से भरी तेरी आंखें बहुत सुंदर प्रेरक कथा है आरम्भ किया तों अंत तक पढ़ कर दम लिया।चुस्त संवाद निर्मल सरिता सा प्रवाह।लेखक को बधाई।👌
  • author
    24 January 2017
    एक सकारात्मक संदेश के साथ, घटनाक्रमों का संयोजन कर गढ़ी गई बहुत सुन्दर कहानी! किसी को इसमें कुछ नयापन न भी लगे, परंतु कहानी का प्लाट और कथ्य बहुत ही उत्कृष्ट है।
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    AnshuPriya Agrawal
    05 March 2020
    बहुत सुंदर कहानी कथावस्तु बहुत ही सार्थक, हर पात्र बहुत सजीवता से गढ़े गए हैं, मानों कोई चलचित्र चल रही हो, 🙏🙏 👌👌🙏💐 आपकी प्रशंसा के लिए और बधाई देने के लिये शब्दों की कमी महसूस कर रही हूँ ..... बहुत बढ़िया बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें
  • author
    Jahanara Saleem
    26 March 2020
    जीवन से भरी तेरी आंखें बहुत सुंदर प्रेरक कथा है आरम्भ किया तों अंत तक पढ़ कर दम लिया।चुस्त संवाद निर्मल सरिता सा प्रवाह।लेखक को बधाई।👌
  • author
    24 January 2017
    एक सकारात्मक संदेश के साथ, घटनाक्रमों का संयोजन कर गढ़ी गई बहुत सुन्दर कहानी! किसी को इसमें कुछ नयापन न भी लगे, परंतु कहानी का प्लाट और कथ्य बहुत ही उत्कृष्ट है।