pratilipi-logo प्रतिलिपि
हिन्दी

आई एम द फो

4.6
9433

जैसे हि मेरी आंखे खुली मेरी आंखे चुंधीया गई. वहाँ बहूत रौशनी था. पुरा उजाल. मैंने उठना चाहा पर पुरे बदन मे दर्द था, मुझे परेशानी हो रही थी, मै बेचैन हो रहा था...“hey, relax buddy. now you are ...

अभी पढ़ें
लेखक के बारे में
author
शशि रंजन

एक आवारा, दिल का प्यारा कवि, लेखक

समीक्षा
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Sunrise Bhatpar Rani Deoria
    06 फेब्रुवारी 2019
    अच्छा प्रयास है... किन्तु आपके हिन्दी वर्तनी मे सुधार की आवश्यकता है, आपने अधिकाधिक शब्दों को गलत लिखा है, (उदाहरणार्थ ""पुरा = पूरा, नजदिक = नजदीक, हि = ही... इत्यादि) और अनावश्यक एवं जबरदस्ती की अंग्रेजी के प्रयोग पर भी नियंत्रण की आवश्यकता है.. साथ ही प्रतिलिपि-टीम से निवेदन करता हूँ कि कोई भी लेख/कहानी को प्रकाशित करने से पूर्व सम्बन्धित भाषा-विशेषज्ञ से अनिवार्य रूप से जॉच करा लिया करें। .
  • author
    kritika tripathi
    27 सप्टेंबर 2018
    sir is story ko mene lagbhag 2 sal phle pdha tha tb se uske next part ka wait kr rhi hu itni achhi story k bad itna lamba gape shi nh h na sir agr pathak kahani hi bhul jaye to next part ka kya mtlb to agr aap jld se jld next part upload krden to muje bhut khusi hogi sir Q k itna lamba wait krne k bad ye story ka next part milega to pls sir jldi hi upload kr de request h ye aapse
  • author
    प्राची
    16 जुन 2018
    wow......m waiting for the next part sir..... .........its a really good......❤
  • author
    आपकी रेटिंग

  • कुल टिप्पणी
  • author
    Sunrise Bhatpar Rani Deoria
    06 फेब्रुवारी 2019
    अच्छा प्रयास है... किन्तु आपके हिन्दी वर्तनी मे सुधार की आवश्यकता है, आपने अधिकाधिक शब्दों को गलत लिखा है, (उदाहरणार्थ ""पुरा = पूरा, नजदिक = नजदीक, हि = ही... इत्यादि) और अनावश्यक एवं जबरदस्ती की अंग्रेजी के प्रयोग पर भी नियंत्रण की आवश्यकता है.. साथ ही प्रतिलिपि-टीम से निवेदन करता हूँ कि कोई भी लेख/कहानी को प्रकाशित करने से पूर्व सम्बन्धित भाषा-विशेषज्ञ से अनिवार्य रूप से जॉच करा लिया करें। .
  • author
    kritika tripathi
    27 सप्टेंबर 2018
    sir is story ko mene lagbhag 2 sal phle pdha tha tb se uske next part ka wait kr rhi hu itni achhi story k bad itna lamba gape shi nh h na sir agr pathak kahani hi bhul jaye to next part ka kya mtlb to agr aap jld se jld next part upload krden to muje bhut khusi hogi sir Q k itna lamba wait krne k bad ye story ka next part milega to pls sir jldi hi upload kr de request h ye aapse
  • author
    प्राची
    16 जुन 2018
    wow......m waiting for the next part sir..... .........its a really good......❤